कष्ट देने का शौक

- औघड़नाथ